कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 22 नवंबर 2011


सच में! सच अब पास आता नहीं....
जिंदगी को कोई  रास आता  नहीं...
खाली हाथ लौटते ख़्वाबों का मन भी भटकता है ...
सूरज की न कहो दोस्त! वो भी आजन्म भटकता है...

रात को न जाने कैसे और कहाँ अटकता है



अभी शब्दों को सफ़र में रहना ही है..
शोर और मोर बनकर ख़बरों में बहना ही है..
 जख्म गहरे ही नहीं अब नासूर हो गए है.....
 जख्म देकर हाकिम बड़ी दूर हो गए हैं....
 इनसे  दवा की अब कौन बात करे .....
 यूँ  ही सडे ...... और  मरे ...
ये जो तुमने चाहे-अनचाहे रस्ते पाऊँ में पहने है ..
 मेरे  दोस्त! यही अब तुम्हारे आभूषण और गहने है ...
 जिंदगी  बस!  कुछ  वक्त साथ देती है,
 सिर्फ यादें ही देर तलक जिन्दा रहती हैं ...
                                                 रमेश कु. घिल्डियाल 




sach me! sach ab paas aata nahi....
jindagi ko koi raas aata nahi...
khali haath laut te khwaabon ka man bhi bhatakta hai...
suraj ki na kaho dost! wo bhi aajanm bhatakta hai...

raat ko n jaane kaise aur kahan atakta hai



abhi shabdon ko safar me rahna hi hai..
shor aur mor bankar khabron me behna hi hai..
jakhm gahre hi nahi ab naasoor ho gaye hai.....
jakhm dekar hakim badi dooor ho gaye hain..
inse dawa ki ab kaun baat kare.....
yun hi sade aur mare...
ye jo tumne chahe-anchahe raste paaon me pehne hai..
mere Dost! yahi ab tumhare abhushan aur gahne hai...
Jindagi bas kuchh wakt saath deti hai
sirf yaaden hi der talak jinda rahti hain...

1 टिप्पणी:

  1. जिंदगी बस! कुछ वक्त साथ देती है,
    सिर्फ यादें ही देर तलक जिन्दा रहती हैं ..

    हाँ स्मृतियाँ सदैव के लिए हमसे जुड़ी रहती हैं......

    उत्तर देंहटाएं